JOYOUS NEWS

अपनी उपापचय प्रणाली को स्वस्थ रखने के आसान तरीके

स्वस्थ रहने के लिए उपापचय प्रणाली का स्वस्थ व मजबूत होना आवश्यक है। उपापचय प्रणाली तेज रहने से आपका वजन नहीं बढ़ता और आप दिन भर चुस्ती-फुर्ती महसूस करते हैं।

अपनी उपापचय प्रणाली को मजबूती दें और अपना मोटापा कम कर ड्रीम फिगर पाने का सपना साकार करें। उपापचय को अंग्रेजी में मेटाबॉलिज्म कहते हैं। यह ग्रीक भाषा के मेटाबोल से बना है, जिसका अर्थ है – परिवर्तन। इस प्रणाली में प्राणियों की कोशिका के भीतर रासायनिक प्रक्रियाओं की एक श्रृंखला चलती है, जिससे कोशिका भोजन में उपस्थित पोषक तत्वों से ऊर्जा प्राप्त करती है।

Simple Ways to Boost your Metabolism

इसमें दो प्रक्रियाएँ – उपचय (एनाबॉलिज्म) और अपचय (कैटाबॉलिज्म) शामिल होती हैं।

अपचय में कार्बनिक पदार्थ विघटित होकर (टूटकर) ऊर्जा प्रदान करते हैं, जबकि उपचय में इस ऊर्जा से कोशिकीय संरचना और अवयव, जैसे न्यूक्लिक एसिड और आवश्यक प्रोटीन आदि बनते हैं।

उपापचय ठीक रखने के प्रमुख उपाय

यहाँ हम आपकी उपापचय प्रणाली को स्वस्थ और मजबूत रखने के कुछ आसान और असरदार उपाय बताने जा रहे हैं।

खाना न खाने की आदत छोडें-

सुबह में अच्छा और पोषक तत्वों से भरपूर ब्रेकफास्ट करें। यह आपके उपापचय प्रणाली को दिन की अच्छी शुरुआत देगा।

रात भर आप नहीं खाते। ऐसे में आपके शरीर में ऊर्जा का क्षय हो चुका होता है। इसलिए ब्रेकफास्ट आपके लिए बहुत जरूरी होता है। इसे न छोड़ें।

इसके अलावे, पूरे दिन छोटे-छोटे अंतराल पर थोड़ा-थोड़ा खाते रहें। अपने भोजन में फल, सब्जियाँ, दूध, दही आदि शामिल करें।

पानी खूब पीएँ-

शरीर में पानी का हिस्सा सर्वाधिक होता है। खूब पानी पीएँ। दिन में कम से कम 10-12 ग्लास पानी जरूर पीना चाहिए।

खाने में मसालों का प्रयोग करें-

शायद आपको आश्चर्य होगा कि मसालों से फायदा हो सकता है। लेकिन ये सच है। हरी मिर्च, काली मिर्च, जीरा, नमक (खासकर काला और सेंधा नमक) खाना पचाने के साथ ही इसके उपापचय में भी मददगार हो सकते हैं।

मसल्स बनाएँ!

केवल सुबह की सैर या जॉगिंग से आपका उपापचय शायद पूरा ठीक न रहे। इसलिए वेट लिफ्टिंग और दूसरे ऐसे व्यायाम भी करें, जो आपके शरीर और मांसपेशियों को मजबूत करें।

आपका शरीर संचित ऊर्जा का व्यय करता है और अगर आप मस्कुलर हैं तो यह खपत और अधिक तेज होती है।

अपने भोजन में प्रोटीन लें-

विशेषज्ञों के अनुसार, प्रोटीन और कार्बोहाइड्रेट में बराबर ऊर्जा होती है, लेकिन प्रोटीन से ऊर्जा प्राप्त करने के लिए कार्बोहाइड्रेट की तुलना में अधिक ऊर्जा खर्च करनी पड़ती है। इसलिए इससे मिलने वाली कुल कैलोरी कार्बोहाइड्रेट से कम हो जाती है। वसा में प्रोटीन और कार्बोहाइड्रेट से अधिक कैलोरी होती है। इसलिए भोजन में वसा और कार्बोहाइड्रेट का प्रयोग कम करें तथा प्रोटीन का अधिक उपयोग करें।

इसके लिए आप अपने भोजन में दालें, अंकुरित दाल, टोफू आदि शामिल कर सकते हैं।

Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Hey, wait!

Looking for Hatke Videos, Stories, Impactful Women Stories, balanced opinions and information that matter, subscribe to our Newsletter and get notified of best stories on the internet