विश्वास, भरोसा और आशा

0
CONFIDENCE: Once, all the village people decided to pray for rain. On the day of prayer, all the people gathered and only one boy came with an umbrella. That’s confidence. TRUST: Trust should be like that feeling of a one year old baby, when you throw him in the air, he laughs because he knows you will catch him. That’s trust. HOPE: Every night we go to bed, we have no assurance to get up alive in the next morning but still you have plans for the coming day. That’s hope. Have Confidence, Trust and never lose Hope.

 

सभी लोग बारिश की कामना कर रहे थे और केवल एक लड़का छाता लेकर आया था। अर्थात उसे बारिश होने पर विश्वास था।

 

जब पिता बच्चे को हवा में उछालता है तो बच्चा ये सोचकर नहीं रोता कि उसका पिता उसे थाम लेगा। यह है भरोसा।

 

जब हम रात में सोते हैं और सुबह के लिए योजना बनाते हैं तो यह आशा है कि हम सुबह ये कर पाएँगे।